Bhajan Ram ji ke

he ram tumhare charno me

हे राम तुम्हारे चरणों में जब प्यार किसी को हो जाएदो चार जनों की बात तो क्या संसार का मालिक बन जाए रावण ने राम से बैर किया अब तक भी जलाया जाता हैबन भक्त विभीषण शरण गए घर बार उसी का हो जाएहे राम तुम्हारे चरणो में जब प्यार किसी को हो जाए गणिका …

he ram tumhare charno me Read More »

ram naam laadu gopal naam ghee

ram naam laadu gopal naam ghee

राम नाम लड्डू गोपाल नाम घी,हरि नाम मिश्री तू घोल घोल पी , हरे रामा हरे रामा रामा रामा हरे हरे,हरे कृष्णा हरे कृष्णा कृष्णा कृष्णा हरे हरे, राम तेरे मन में तो श्याम जीवन में,काटते हैं भक्तों के संकट क्षण में ,ध्यान से सुनो यह बात बड़ी काम की,हरि नाम मिश्री तो घोल घोल …

ram naam laadu gopal naam ghee Read More »

bade bhagye tune beri ke ber paye tujhe chakh chakh ke mere shri ram khaye

bade bhagye tune beri ke ber paye tujhe chakh chakh ke mere shri ram khaye

बड़े भाग्य तूने बेरी के बेर पाए,तुझे चख चख के मेरे श्री राम खाए, जिस रस्ते से राम जी आए,शबरी वहां पर फूल बिछाए,कहीं कांटे ना प्रभु जी को चुभ जाए,तुझे चख चख के मेरे श्री राम खाए, आए जब श्री राम रमईया,धन्य हुई शबरी की कुटिया,रंग भक्तिन की भक्ति पर बरसाए,तुझे चख चख के …

bade bhagye tune beri ke ber paye tujhe chakh chakh ke mere shri ram khaye Read More »

nagari ho ayodhya si raghukul sa gharana ho

nagari ho ayodhya si raghukul sa gharana ho

नगरी हो अयोध्या सी,रघुकुल सा घराना होचरन हो राघव के,जहा मेरा ठिकाना हो लक्ष्मण सा भाई हो,कौशल्या माई होस्वामी तुम जैसा मेरा रघुराई होनगरी……. हो त्याग भरत जैसा,सीता सी नारी होलव कुश के जैसी सन्तान हमारी होनगरी…….. श्रद्धा हो श्रवण जैसी,शबरी सी भक्ति होहनुमान के जैसे निष्ठा और शक्ती होनगरी…….

maara juna josi ram milan kab hosi

maara juna josi ram milan kab hosi

मारा जूना जोशी राम मिलन कब होसी,राम मिलन कब होसी ,महारा जूना जोशी राम मिलन कब होसी आओ जोशी जी ये पाट बिराजो,बाच सुनाइयो थी पोथी जीमारा जूना जोशी राम मिलन कब होसी खीर खांड का जोशी भोजन जिमामा,नुत जिमावा थारा गोती,मारा जूना जोशी राम मिलन कब होसी आठ भरी को जोशी बागो सिलवासा,हीरा जड़वाया …

maara juna josi ram milan kab hosi Read More »

dasrath ke raj kumar van me firte maare maare

dasrath ke raj kumar van me firte maare maare

दसरथ के राज कुमार वन में फिरते मारे मारे,दुनिया के पालन हार वन में फिरते मारे मारे, थी साथ में जनक दुलारी पत्नी प्राणो से प्यारी,सीता सतवंती लाल वन में फिरते मारे मारे,दुनिया के पालन हार वन में फिरते मारे मारे, भाई लखन लाल बलशाली उसने तीर कमान उठा ली,भाई भाभी का पहरे दार वन …

dasrath ke raj kumar van me firte maare maare Read More »