Bhajan Jain

jo swarg dekhna chahte hai-जो स्वर्ग देखना चाहते है

jo swarg dekhna chahte hai-जो स्वर्ग देखना चाहते है

जो स्वर्ग देखना चाहते है,वो कम्पिल जी आ जाते है,जिन प्रभु की नगरी कम्पिल जी,जिन प्रभु यहाँ मिल जाते है, यहाँ प्रभु विराजे कण कण में वो कष्ट निवारे इक शन में,वो वसे यहाँ रोम रोम वो शिखर में है जड़ में है,जो मन में उनका ज्ञान धरे जिनप्रभु उन्हें मिल जाते है,जिन प्रभु की …

jo swarg dekhna chahte hai-जो स्वर्ग देखना चाहते है Read More »

ho baba re, aaja re muhje kuch ho raha hai bhagat ye ro raha hai

ho baba re, aaja re muhje kuch ho raha hai bhagat ye ro raha hai

हो बाबा रे आजा रे, हो बाबा रे आजा रे,मुझे कुछ हो रहा हैं, भक्त ये रो रहा हैं ।याद में तेरी कबसे, मेरा दिल रो रहा हैं,हो बाबा रे आजा रे, हो बाबा रे आजा रे ॥ सुनी आंखें, मेरे गुरुवर, तेरी राह निवारे,इन नैनो की प्यास बुझाने जल्दी से चले आ रे ।तेरा …

ho baba re, aaja re muhje kuch ho raha hai bhagat ye ro raha hai Read More »