mainu nokar rakhlo dati ji apne darbar da

इक अर्जी मेरी है बाकि मर्जी तेरी है,
ना करके दिल न तोड़ देना इस सेवा दार दा,
मैनु नौकर रख लो दाती जी अपने दरबार दा,
इक अर्जी मेरी है बाकि मर्जी तेरी है,

तेरे कर्म नमाजी वाले झंडे झुल्दे ने,
तेरे दर ते आके दर्द मुकदे खुल्दे ने,
नाले कट जाये जून चौरासी,
सदका है सरकार दा,
मैनु नौकर रख लो दाती जी अपने दरबार दा,

वैर विरुद्ध दे लालच नु माँ जग तो कट द्वौ,
हर पासे मैं प्यार ही वंडा ऐसे मत देवो,.
तेरी किरपा दे नाल ना हो जे मैं गुन्हा गार दा,
मैनु नौकर रख लो दाती जी अपने दरबार दा,

जोहनी चक मुगलाने दी इक रीत अधूरी माँ,
जे तू चरनी ला ले होजु मनसा पूरी माँ,
मैनु नौकर रख लो दाती जी अपने दरबार दा,
आज शुभ नु दर्श दिखा के तपदा सीना थार दा,
मैनु नौकर रख लो दाती जी अपने दरबार दा,

Leave a Comment