साईं से अगर एक पल भी,
तू लगन लगाएगा,
सच यही है साई तेरी,
जिंदगी बनाएगा,

साई राम जपता है जो,
साई को वो प्यारा है,
मन में साई बस जाए तो,
समझो वारा न्यारा है,
साई तुझपे भी खुशियों की,
रौशनी लुटाएगा,
सच यही है साई तेरी…..

सौ दुखो की एक दवा है,
वो है नाम साई का,
मैं नहीं ये सब कहते है,
सच्चा धाम साई का,
साई राम जपले मन से,
चैन तू भी पाएगा,
सच यही है साई तेरी…..

साई से अगर एक पल भी,
तू लगन लगाएगा,
सच यही है साई तेरी,
जिंदगी बनाएगा

Leave a Reply