सब दी आस पुजाई वे साईं,
मेहर दा मीह वरसी वे साईं मेहर दा मीह वरसी,

कोई ना होवे दुखीअरा,
खुश होवे संसार सारा,
सबदे कम बनाई वे साईं सबदे कम बनाई,
सब दी आस पुजाई वे साईं…….

सबदिया आसा पुरिया करदे,
दूर सबे मजबूरियां करदे,
अपने वचन निभाई साईं,
सब दी आस पुजाई वे साईं…….

कोई भी मोहताज ना होवे,
रोग कोई लाही लाज ना होवे,
सबदे कष्ट मिटाई साईं,
सब दी आस पुजाई वे साईं…

घर घर खुशाली होवे,
गोद न कोई खाली होवे,
घर घर बाल खिलाई,
सब दी आस पुजाई वे साईं…

निर्मल नु बलवान बना दे,
निर्धन नु धनवान बनादे,
हर भूल चुक बक्शाई,
सब दी आस पुजाई वे साईं….

शरणा घट बन जो वी आवे,
मन वंचित सुख तेतो पावे,
मुकी दी गल मुकाई,
सब दी आस पुजाई वे साईं….

सब ली खुशिया दे पल मांगिये,
साहिल सब दा मंगल मानिये,
एहो मंग मंगवाई साईं एहो मंग मंगवाई,
सब दी आस पुजाई वे साईं….

Leave a Reply