उचियाँ पहाड़ियां माँ उचियाँ पहाड़ियां ,
मंदिरा उते मेले लगदे नचदियाँ संगता प्यारियां,
उचियाँ पहाड़ियां …..

माँ वैष्णो दे दर उते मैं वेखे अजब नजारे ओ भगतो,
माँ शक्ति दे उची उची गुंजन पये जयकारे ओ भगतो,
इक दूजे नु जय माता दी कह के,
चड जाओ कठिन चड़ाइया,
उचियाँ पहाड़ियां ……

माँ जवाला दियां जगमग जोता सदियाँ तो एह जग रहियां,
संगता नु एह दे दर्शन सदा खजाने भर रहियां,
सदा ही वसदियां रहन एह मावा,
जेह्डी बचियाँ नु लाड लड़ा रहियां,
उचियाँ पहाड़ियां ………

सोन महीने चिन्तपुरनी माँ दर मेला लगाया ओ भगतो,
सोहने सोहने फुला नाल तेरा मंदिर सज्या ओ मियाँ,
हर साल तेरे दर ते आवा,
भगत एहो अरजा गुजारियां,
उचियाँ पहाड़ियां ………..

Leave a Reply