तुरदा है निक्की निक्की तोर
निकका जेहा बालक आ,
गुफा च भंडारे बैठा खोल,
निकका जेहा बालक आ,
तुरदा है निक्की निक्की तोर

इस बालक दी की ऐ निशानी,
हथ विच चिमटा गल विच गानी,
खीच लेंदा दिला वाली डोर,
तुरदा है निक्की निक्की तोर

जोगी मेरे दी रमज है गहरी,
बगल च झोली जता सुनेहरी,
सिंगियाँ रखदा ऐ कोल,
निक्का जेहा बालक आ,
तुरदा है निक्की निक्की तोर

जदों जोगी बे धुना लाया,
गोरख टिलियो चल के आया,.
उड़ गया बनके मोर,
तुरदा है निक्की निक्की तोर

जोगी मेरा है की कुझ खांदा,
रोट परशाद नु भोग लगाऊदा,
सोहनी कहे साडा ना कोई होर,
निका जेहा बालक आ,
तुरदा है निक्की निक्की तोर

गुफा च भंडारे बेठा खोल ,
निका जेहा बालक आ,
खीच लेनदा दिला वाली ढोर,
निका जेहा बालक आ,
सिंगियाँ रखदी ऐ कोल.,
तुरदा है निक्की निक्की तोर

उड़ गया बंकी मोर,
निक जेहा बालक आ,
सोहनी कहे साडा ना कोई होर,
निका जेहा बालक आ,.
तुरदा है निक्की निक्की तोर

Leave a Reply