तूने तान ये कैसी सुनाई,याद आई रे तेरी याद आई
तूने प्रीत ये कैसी निभाई, याद आई रे तेरी याद आई

प्रेम दीवानी में तो डालूं वन वन में
एक तेरी प्रीत कान्हा मेरे इस मन मे
तेरी राह में पलकें बिछाई।………..

नींद मेरी छीनी कान्हा चैन मेरा छीना
तेरे बिना इक पल अब नहीं जीना
मुझे इक पल नींद ना आई।………..

एक बार आजा कान्हा वादा तो निभा जा
मेरी इन धड़कनों में आके तू समा जा
तूने प्रीत ये कैसी निभाई।……..

Leave a Reply