tulsi rani ka vyaah hai

तुलसी रानी का व्याह है सब बधाई गाओ री,
शाली ग्राम जी को फूलो से सजा कर लाओ जी
तुलसी रानी का व्याह है सब बधाई गाओ री,

कार्तिक मॉस एकादशी शुभ घड़ी आई,
हरी भरी धरती भी मन ही मन हरषाई,
हरी बैठे रानी अब यु न शरमाओ रे न तुम लेहराओ रे
शाली ग्राम जी को फूलो से सजा कर लाओ जी

मंगल कलश लिए सखी द्वारे पे है ढोले,
तुलसी के भी तुमहे नमन है हम सब अब ये बोले
सज के अंगना में सदा दर्श दिखलाओ रे,
शाली ग्राम जी को फूलो से सजा कर लाओ जी

कृष्ण भजन