tu jholiyan bharniya chad de maa asi mangna chad da ge

तू झोलियाँ भरनिया छड़ दे माँ असि मंगना छड़ दा गे,
तू किरपा करनी छड़ दे माँ असि आना छड़ दा गे,

तनु कहन्दे ने मेहरा वाली माँ तू वंड दी है खुशाली माँ,
हथ सिर ते धरना छड़ दे माँ असि झुकना चढ़ दा गे,
तू झोलियाँ भरनिया छड़ दे माँ असि मंगना छड़ दा गे,

तू सुते भाग जगाउनि है तू हरेक च मेख लगाउनि है,
डिगदे नु पकड़ न छड़ दे माँ असि डिगना छड़ दा गे,
तू झोलियाँ भरनिया छड़ दे माँ असि मंगना छड़ दा गे,

चंचल तेरे दर आंदा न जे तेरा सुनेहा जांदा न,
तू ऊँगली पकड़ना छड़ दे माँ असि चलना छड़ दा गे,
तू झोलियाँ भरनिया छड़ दे माँ असि मंगना छड़ दा गे,

Leave a Comment