तू देंदी जा मायें, असीं मंगदे रहणा ऐं
साडी नीयत भरनी नहीं ऐसी नाल ही कहना है,
तू देंदी जा मायें, असीं मंगदे रहणा ऐं

तू दिन्दी थक दी नहीं ऐसी मंगदे थकना नहीं,
तू सुन सुन थक दी नहीं असि केहन तो रुकना नहीं,
इस जीवन दा पल पल एहता नंग दे रहना है
तू देंदी जा मायें, असीं मंगदे रहणा ऐं

साहनु एह यकीन माये खाली न तू मोड गी,
आसा साडी सदरा दा तू कदे न तोड़े गी,
असि तेथो ले ले के वंद दे रहना है,
तू देंदी जा मायें, असीं मंगदे रहणा ऐं

असि दास तेरे बचे तेरा खेड़ा छड़ना नहीं
कदी होर किसे दर ते असि पल्ला अड़ना नहीं ,
फिर हथ विच एह सदा तंग करदे रहना है,
तू देंदी जा मायें, असीं मंगदे रहणा ऐं

Leave a Reply