सो तेरी मेरा जी करदा तेरे चरना विच बेह जावा,
अरे तू भजवे बांसुरी मैं तेरी महिमा गावा,
श्याम सो तेरी मेरा जी करदा…

तू मालिक सारे जग दा है ते सब दे किरपा करदा है,
एहना चरना च आये बचियाँ दी तू हर एक विपदा हर दा है,
सदा ही अपने भगता तो तू राखी तू भलावा,
तू भजावे बांसुरी मैं तेरी महिमा गावा,
श्याम सो तेरी मेरा जी करदा…

मैं हाथ जोड़ अरदास करा तू खाली मेनू मोड़ी न,
एह दर ते आये बचिया दा तू भूले के वी दिल तोड़ी न,
तेरी मस्ती दे विच श्यामा अपना आप भूल जावा,
श्याम सो तेरी मेरा जी करदा…

बिना तेरी मर्जी दे कृष्णा इक पता न हिल दा है,
भाग से ज्यदा समय तो पहले किसे नु कुञ्ज न मिलदा है,
तू अंग संग मेरे रही सदा मैं तेतो वारी जावा,
अरे तू भजावे बांसुरी मैं तेरी महिमा गावा,
श्याम सो तेरी मेरा जी करदा…

तू भजवे बांसुरी मैं तेरी महिमा गावा

Leave a Reply