डोल रही नैया बाबा पार लगाओ ना
थाम लो पतवार मैं माजी बन जाओ ना,

अर्ज लगावा थाने रिजावा थारे दर पे शीश झुकावा,
बाबा थासु हाथ जोड़ कर साँची साँची बात बतावा,
सुन जो लखदातार बाबा हाथ बढ़ाओ ना,
थाम लो पतवार में माजी बन जाओ न,

देवा दुहाई श्याम सहाई बनके हमारी बिगड़ी बनाओ,
हे मझदार में मेटि नैया भव सागर से पार लगाओ,
हे वो खेवन हार बाबा जल्दी आओ ना,
थाम लो पतवार में माजी बन जाओ न,

कहे चोखानी सुन वरदानी एक सहरो थारो है,
भगता के संग सुनी संवारा बोले बाबो महरो है,
था पे दारम दार बाबा साथ निभाओ ना,
थाम लो पतवार में माजी बन जाओ न,

Leave a Reply