तेरियाँ बे परवाइयाँ साईंया,
आप ते खावे रुखा सूखा वंडे दूध मलाइयाँ साइयाँ,
तेरियाँ बे परवाइयाँ साईंया

है तेरे वस् में तकदीरे तू बदले हाथो की लकीरे,
खुद बेघर बंजारा है पर सब को देता है जागीरे,
तेरा बीशोना है धरती का बदल तेरी रजाइयां सैयां,
तेरियाँ बे परवाइयाँ साईंया…

तू सब के दुःख में रोटा है सबका दर्द तुझे होता है,
तेरे बंदे सो जाते है,
तू बाबा न कभी सोता है,
उसका भी चाहे तू भला जो तेरी करन बुराइयां,
तेरियाँ बे परवाइयाँ साईंया…….

तेरी इक नजर की कशिश है,
पीछे पीछे तेरे ये रविश है,
मिल गए श्रदा और सबुरी हरी तृष्णा की मिटी तपिश है,
जन्नत में ले आई साई मुझे तेरी परछाईया साइयाँ,
तेरियाँ बे परवाइयाँ साईंया

Leave a Reply