तेरे नाम के हम तो पागल है ,
तेरे प्यार के हम तो घायल है,
क्यों करते हो इंकार,
तुम्हे आना ही होगा मेरे श्याम धनि सरकार,

नजरे मिला के सांवरियां पागल हम को कर डाला,
नजरो के तीरो से बाबा घायल हम को कर डाला,
अब किसको जाकर बोले हम बता दो पालनहार,
तुम्हे आना ही होगा मेरे श्याम धनि सरकार,

अपने प्रेम के रंग में बाबा तूने हमको रंग डाला,
रोते ढोते हार गई मैं अब न छूटे रंग बाबा,
अब जगती हु न सोती हु दिल होता है बरकरार,
तुम्हे आना ही होगा मेरे श्याम धनि सरकार,

तड़प तड़प कर मरणा चाहु सूद पगली को लेलो श्याम,
तुम न आये तो मेरे बाबा हो जायेगे हम बदनाम,
बोले रही तेरी राहो में तेरी सच्ची है सरकार,
तुम्हे आना ही होगा मेरे श्याम धनि सरकार,

Leave a Reply