सच्ची श्रदा दे नाल शीश निभाना चाहिदा,
तेरे बच्चियां जगन करवाया माँ तनु ओना चाहिदा,

नच नच के भगता ने मैया दर ते रोनका लाइयाँ,
जगराते दे विच आके संगता द्वितीय लख वदाईया,
हर इक सेवक न माँ चरनी लौना चाहिदा,
तेरे बच्चियां जगन करवाया माँ तनु ओना चाहिदा,

तू आवे ते आऊं बहारा खिड़ियाँ रेहन सदा गुलजारा,
तेरा दर्शन पाऊं वास्ते खड़ियाँ संगता विच क़तारा,
सादे घर खुशियां दा मंगल शोना चाहिदा,
तेरे बच्चियां जगन करवाया माँ तनु ओना चाहिदा,

दर तेरे दा सेवक बन के रिंकू ने ता सब कुछ पाया,
सबरवाल परदेशी माँ बकशोना चाहिदा,
तेरे बच्चियां जगन करवाया माँ तनु ओना चाहिदा,

Leave a Reply