कोई आया कला कोई नाल परिवार दे,
असी भी ता चल आये माँ दे दरबार ते,
रेह्न्दी ना कोई थोड ओहनू माँ दे दर आ के,
जेह्डा चरना च हाज़रियां भरदा.
माये नि तेरे सोहने मंदिरा तो,
जी नि जान नु करदा……

तेरे नाम वाली माये ज्योत ज्गाओंदे आ,
हर वेले मइया तेरा नाम धियौंदे आ,
वखरा ही सुख माये मिलदा ऐ ओहनू,
जेह्डा चरना च शीश तेरे थरदा,
माये नि तेरे सोहने मंदिरा तो,
जी नि जान नु करदा……

भवन माँ लगे तेरा स्वरगा तो प्यारा माँ,
वेखियाँ ना एहो जेहा किते भी नजारा माँ,
रेहमता दा मीह माये मेरिये,
सदा तेरे चरना च वरदा,
माये नि तेरे सोहने मंदिरा तो,
जी नि जान नु करदा……

उचा अते सुचा माये तेरा दरबार ऐ,
ताहियो तेनु पुज्दा ऐ सारा संसार ऐ,
नकोदर दा मिंटू वि दर तेरा आ के
चेता भूल बेठा अपने घर दा,
माये नि तेरे सोहने मंदिरा तो,
जी नि जान नु करदा……

Leave a Reply