सोहना दर पौणाहारी/दूधाधारी दा जिथे ढोलक वजदी ऐ,
हो तक तक दीद जोगियां/नाथ मेरी अख वी न रजदी.

सोहना दर पौणाहारी/दूधाधारी दा जिथे ढोलक वजदी ऐ,
हो तक तक दीद जोगियां /नाथ जी मेरी अख वी न रजदी ऐ

सोहना दर पौणाहारी/दूधाधारी दा जिथे वजदियाँ टलियाँ ने ,
हो संगता प्यारियां अज जोगी /बाबे दर चलियाँ ने,

सोहना दर पौणाहारी/दूधाधारी दा जिथे धुना लगदा ए,
हो पौनाहारी .दुधाथारी मेहरा करे नाले मुरादा वंडदा ऐ,

सोहना दर पौणाहारी/दूधाधारी दा जिथे चिमटा वजदा ऐ,
हो जोगी बाबे दर जो भी जाये ओहदे दुखड़े हरदा ऐ

सोहना दर पौणाहारी/दूधाधारी दा जिथे वजदा छेना ऐ,
हो भगता प्यारियां ने पाया नाम वाला गहना ऐ,

सोहना दर पौणाहारी/दूधाधारी दा संगता ने चाला पाया ऐ,
हो जोगी./बाबे नु भगता ने भोग रोट दा लगाया ऐ,

सोहना दर पौणाहारी/दूधाधारी दा संगता भेटा गाउनदियां ने,
हो गुफा उते जा के संगता सोहना झंडा चडाऊदियां ने,

सोहना दर पौणाहारी/दूधाधारी दा जिथे ढोलक वजदी ऐ,
हो तक तक दीद जोगियां नाथ जी मेरी अख भी न रज दी ऐ

बाबा बालक नाथ भजन