श्याम को अपना बना कर देख ले,
दिल के कोने में बिठा कर देखले,

इतना सीधा है मेरा ठाकुर यही,
प्रेम से दो बात बोलो तो सही,
आएगा पल में भुला कर देखले,
दिल के कोने में बिठा कर देख ले ,
श्याम को अपना बना कर देख ले

प्रेमियों की हर समय दरकार है,
प्रेम का भूखा मेरा सरकार है,
प्रीत का माखन खिला कर देख ले,
दिल के कोने में बिठा कर देख ले ,
श्याम को अपना बना कर देख ले

अगर हरी के नाम में खो जाओ गये,
दुरी काम बैकुंठ की कर पाओगे,
जब भी मन हो आजमा कर देख ले,
दिल के कोने में बिठा कर देख ले ,
श्याम को अपना बना कर देख ले

Leave a Reply