श्री राधे गोपाल भज्मन श्री राधे

यमुना तट पे हरी हरी घास
गईया चरावे नंदलाल भज्मन श्री राधे
श्री…….

वृंदावन में रास रचावे
सखिया नचावे नंदलाल भज्मन श्री राधे
श्री……

मैया यशोदा दही बिलोवे
माखन खावे नंदलाल भज्मन श्री राधे
श्री……..

नैया मेरी डगमग डोले
पार लगादो नंदलाल भज्मन श्री राधे
श्री…….

Leave a Reply