sheranwali maaee pte pte vich sheravali maai

फूल न तरोड़ मालने,
पते पते विच शेरावाली माई,
फूल न तरोड़ मालने,
पते पते विच शेरावाली माई,

हथ मेरे विच गंगा जल गडवा,
मेरी माता जी नु इशनान कराई,
फूल न तरोड़ मालने……

हथ मेरे विच मखमल बादला,
मेरी माता जी नु वस्तर पहनाई,
फूल न तरोड़ मालने……

हथ मेरे विच केसर कटोरियाँ,
मेरी माता जी नु माता जी नु तिलक लगाई ,
फूल न तरोड़ मालने……

हथ मेरे विच फुला वाली टोकरी,
मेरी माता जी नु पुष्प चडाई,
फूल न तरोड़ मालने……

हथ मेरे विच धुफ़ दियां बतियाँ,
मेरी माता जी नु धुफ़ खुखाई ,
फूल न तरोड़ मालने……

हथ मेरे विच गरी ते छुवारे,
मेरी माता जी नु भोग लगाई,
फूल न तरोड़ मालने……

ध्यानु भगत माँ तेरा यश गावे,
गिरधारी दी वी आस पुजाई
फूल न तरोड़ मालने……

Leave a Comment