सेवक तू श्याम का होता है क्यों उदास,
संवारा तेरी पूरी करेगा आस,

मैंने श्याम जैसा दूजा दर नहीं देखा,
प्रेमी के आसुओं का असर यही देखा,
बहने दे आंसुओं को चरणों के आस पास,
संवारा तेरी पूरी करेगा आस…..

जिस दिन बनेगा तू श्याम का दीवाना,
गूंजे गा इनके मन में श्याम का तराना,
हो गा कभी नहीं जीवन में तू निराश,
संवारा तेरी पूरी करेगा आस,

करले भरोसा तू सँवारे पे पूरा,
तेरा रहेगा कोई काम न अधूरा,
सँवारे की किरपा का रोमी को है अब्बास,
संवारा तेरी पूरी करेगा आस,

सेवक तू श्याम का

Leave a Reply