sarsa nadi de vichoda pae geya

वाटाँ लमियाँ ते रस्ता पहाड़ दा तुरे जांदे गुरा दे दो लाल जी,
सरसा नदी दे विछोडा पै गया उस वेले दा सुन लओ हाल जी,

रात हनेरी बिजली लिश्के राह जंगला दे पै गये ने,
रेशम नालो सोहल शरीर नु दुखड़े सहने पे गाये ने,
छोटी उमर दे दोनो बाल जी माता गुजरी ओहना दे नाल जी,
सरसा नदी दे विछोडा पै गया……

कहर दी सरदी हडियाँ चीरे बाल न्याने कंब्दे ने,
ऊँगली फड के माँ गुजारी दी राह पत्थर दे लंगदे ने,
कदों अजीत ते जुझार वीरे आनगे माता गुजारी नु पुछदे सवाल जी,
सरसा नदी दे विछोडा पै गया

उम्र न्यानी दो बच्या दी इक माँ भूदडी साथ करे,
बे दोसे एहना निरदोशा दा कौन है जो इन्साफ करे,
कैसी होनी ने खेड़ चाल जी गंगू पापी ओहना दे नाल जी,
सरसा नदी दे विछोडा पै गया

Leave a Comment