sanware kyu mujhse kafa ho geya

सांवरे क्यों मुझसे खफा हो गया
बता दे भला क्या गुनाह हो गया

भटक गया हूँ बाबा मंज़िल मेरी
इक बार फिरा दे सर पे मोरछड़ी
अँधेरा या जीवन घाना हो गया
बता दे भला क्या गुनाह हो गया

है तुमको कसम बाबा छोड़ो ना हाथ
कहाँ जाएंगे तुमने दिया जो ना साथ
बाबा राज अब तेरा हो गया
बता दे भला क्या गुनाह हो गया
सांवरे क्यों मुझसे ………

Leave a Comment