संगतां दे नाल भरिआ,पौनाहारी दा वेहडा,
गुफा विच बैठा जोगी बैठा जी ला के डेरा,
संगतां दे नाल भरिआ…….

थोली थार लगियां रोनका वजदे ने ढोल नगाड़े,
जोगी दी महिमा गाउंदे गाउंदे ने भगत प्यारे,
फुला दी महक आउंदी चमके जी चार चुफेरा,
संगतां दे नाल भरिआ…….

कोई ता दर्शन करदा कोई ता चोंकियाँ भरदा,
खाली न मुड के जावे जिसदी है सची श्रधा,
उहना लइ खुले भंडारे दर उते आ गया जेह्डा,
संगतां दे नाल भरिआ…….

शिवा दी करके भगती भगती चो पा लाइ शक्ति,
रेहिमत दा मीह बरसावे रंगा विच दुनिया रंगती,
पाली ते मंदिर ताहियो करदे धन्वाद जी तेरा,
संगतां दे नाल भरिआ…….

Leave a Reply