saj gai hai khatu nagari saj geya hai khatu darbar

सज गई है खाटू नगरी और सज गया श्यामदनि दरबार,
मेरे श्याम का आ गया फागण का रंगीला त्यौहार,

इक रंग विरंगे श्याम ध्वजा से सूंदर लगे नजारा,
चारो दिशाओ में गूंजे श्याम नाम जैकारा,
श्याम प्रेमियों से खाटू की होगी है गलियां गुलज़ार,
मेरे श्याम का आ गया फागण का रंगीला त्यौहार,

श्याम ने ऐसा रंग चढ़ाया मस्ती में मस्ताने,
अपनी धुन में नाच रहे है बन के श्याम दीवाने,
सतरंगी फागण में लेके आई है जो बहार
मेरे श्याम का आ गया फागण का रंगीला त्यौहार,

रंग गुलाल की हो रही वर्षा मौसम है अलबेला,
सांवरियां संग खेलने होली आया कुंदन अकेला,
भीग रहा है राहुल हो रही है रंगो की बोहार,
मेरे श्याम का आ गया फागण का रंगीला त्यौहार,

Leave a Comment