सच्चा है मेरे श्याम का दरबार देख लो
आँखों से अपने जाके चमत्कार देख लो

दरबार मेरे श्याम का मशहूर बहुत था
थे टूटे फूटे रास्ते और दूर बहुत था
लेकर मुरादें चल पड़ा ब्राह्मण का परिवार
संतान की थी कामना और बाबा से था प्यार
चलते चलते रास्ते में रात हो गयी
एक घटना उनके साथ अकस्मात् हो गयी
ब्राह्मण को मार डाला डाकुओं ने लूट कर
ब्राह्मण की पत्नी रोने लगी फूट फूट कर
ब्राह्मण की पत्नी रोये ज़ार ज़ार देख लो
आँखों से अपने जाके चमत्कार देख लो

आयी थी तेरे द्वार तुझे बाप समझ कर
माटी में मिला दिया मुझे ख़ाक समझ कर
छाती को लगी पीटने हाय राम मेरे राम
दुनिया उजाड़ गयी मेरी झूठा है बाबा श्याम
आयी थी लेने लाल और सुहाग लुटा है
तेरी आँखों के सामने मेरा भाग फूटा है
बनते हो दयावान और दया का नाम नहीं है
पत्थर है मेरा श्याम तू भगवन नहीं है
बकने लागि वो गालियां हज़ार देख लो
आँखों से अपने जाके चमत्कार देख लो

हाथों से अपने बाल को वो नोचने लगी
ज़िंदा हूँ किसलिए वो खुद को कोसने लगी
सुनले मेरी पुकार दुनिया बनाने वाले
धरती का बोझ समझ के दुनिया से उठा ले
पत्थर पड़ा था सामने झटके से उठाया
सर फोड़ने चली हुई श्री श्याम की माया
इतनी से देर में वहां तूफ़ान आ गया
लीले घोड़े पे बैठ बाबा श्याम आ गया
सुनता है अपने भक्त की पुकार देख लो
आँखों से अपने जाके चमत्कार देख लो

बाबा को देख सामने चरणों में गिर गयी
मुझको बचाले श्याम मैं बेमौत मर गयी
बेटी के आंसू पूंछे और ब्राह्मण को जिलाया
गुस्सा ना करो बेटी ज़रा देर से आया
कुछ दिन बाद तेरी गॉड भरेगी
ये आशीर्वाद मेरा बहुत मौज करेगी
बनवारी ऐसा देव जो मुर्दों को जिया दे
जो काम कोई कर ना सका करके दिखा दे
करता अपने भक्त से वो प्यार देख लो
आँखों से अपने जाके चमत्कार देख लो

Leave a Reply