उड़ काले कावा तेनु चुरियाँ मैं पावा,
उड़ काले कावा
उड़ काले कावा तेनु चुरियाँ मैं पावा,
मेरा भी सुनेहा लेनदा जाई वे,
मेरे भोले भाले जोगी नु,
रतनो दा हाल सुनाई वे,
मेरे भोले भाले जोगी नु,

आखी माता रतनो दा दिल नहियो लगदा,
नैना विचो छम छम नीर पेया वगदा,
नैन दो प्यासे आ की भूखे तेरी दीद ताई,
दिन्दियाँ दी प्यास भुजाई वे,
मेरे भोले भाले जोगी नु,
रतनो दा हाल सुनाई वे….

तेरे बिना जोगियां वे जी नहियो सकदी,
जेहर जुदाइयां वाला पी नहियो सकदी,
नही ता विछोड़ा च मैं मर जाना,
बच्दी जे जान बचाई नु,
मेरे भोले भाले जोगी नु,
रतनो दा हाल सुनाई वे….

घर जे तू आवे जोगी शगन मनावागी,
खुशियाँ दे लड्डू वंड आरती मैं गावांगी,
कोमल जलंधरी सलीम गाऊ नच नच ,
चोंकी मैं करावा चाई चाई वे,
मेरे भोले भाले जोगी नु,
रतनो दा हाल सुनाई वे….

Leave a Reply