ये भी करलु वो भी करलु घर अपना पैसे से भरलू,
ये भी पा लू वो भी पा लू जीवन के हर गीत को गए लू,
ईशाओ का अंत न कोई राम रचा सोही होइ

ऐसा होये वैसा होये जाने कैसा कैसा होये
मिले सभी कुछ कुछ न खोये भाग जगा हो कभी न सोये,
ईशाऔ का अंत न कोई,राम रचा सोही होइ

अतुलित बल हो अगणित धन हो,
खुशियों से परिपूरित मन हो,
मेहका भगिया का कण कण हो जीवन इक सूंदर उपवन हो,
ईशाओ का अंत न कोई,
राम रचा सोही होइ

Leave a Reply