rakhi main bana ke rakhadi bhen mainu ik veer di bnade

बोल मेरे भी माँ छेती तू पुकादे,
रखी मैं बना के रखड़ी,
भैण मैनू इक वीर दी बनादे…..॥

मौली दीया तन्दा नाल डोरी मैं बनाई,
लिखीया जै माँ सोहणे गोटे न सजाई ऐ,
चा मेरे वी माँ पूरे तु करादे……….॥

हर पल वेख मईया तेरी रोई ऐ,
वीर बिना जग सूना रौनक न कोई ऐ,
बूटा बाबूल वेहडे माँ लगादे……………॥

लोका दे बोल माडे सीना साड जांदे ने ,
गल्ला – गल्ला विच दाती गल मार जांदे,
माँ मेरी पूत वाली तु बना दे ………॥

जिदे आखे लग मईया रखड़ी बनाई ऐ,
श्रद्धा दे नाल तेरे चरणी छूयाई ऐ ,
लाज ‘ सागर ‘ दी आज माँ बचा दे ……. ॥

दुर्गा भजन