बोल मेरे भी माँ छेती तू पुकादे,
रखी मैं बना के रखड़ी,
भैण मैनू इक वीर दी बनादे…..॥

मौली दीया तन्दा नाल डोरी मैं बनाई,
लिखीया जै माँ सोहणे गोटे न सजाई ऐ,
चा मेरे वी माँ पूरे तु करादे……….॥

हर पल वेख मईया तेरी रोई ऐ,
वीर बिना जग सूना रौनक न कोई ऐ,
बूटा बाबूल वेहडे माँ लगादे……………॥

लोका दे बोल माडे सीना साड जांदे ने ,
गल्ला – गल्ला विच दाती गल मार जांदे,
माँ मेरी पूत वाली तु बना दे ………॥

जिदे आखे लग मईया रखड़ी बनाई ऐ,
श्रद्धा दे नाल तेरे चरणी छूयाई ऐ ,
लाज ‘ सागर ‘ दी आज माँ बचा दे ……. ॥

दुर्गा भजन