राधे राधे रटते रहना,अच्छा लगता है,
अब तो दर्शन हो जाएंगे ऐसा लगता है ,
राधे राधे……

ये दुनिया है झूठी माया क्यूँ भरमाया है,
फंसकर इसमे कुछ न मिलेगा ऐसा लगता है ,
अब तो दर्शन…….
राधे राधे……….

मन में ज्योती जला ले बंदे राधा नाम की,
रटकर राधे तर जाएंगे ऐसा लगता है ,
अब तो दर्शन…….
राधे राधे……….

कौन जगत में अपना है और कौन पराया है,
दुनिया का हर रिश्ता हमको सपना लगता है,
अब तो दर्शन…….
राधे राधे……….

तोड़े सारे बंधन अब तो प्रभु को पाना है ,
पायला को भी प्रभु का सुमिरन अच्छा लगता है ,
अब तो दर्शन…….
राधे राधे……….

राधे राधे रटते रहना,अच्छा लगता है,
अब तो दर्शन हो जाएंगे ऐसा लगता है ,
राधे राधे……

Leave a Reply