जाना जोगी दे दरबार उथे हुँदै बेड़े पार,
पौनाहारी जोगी मेरा दुःख आपे क्तदा,
सोने दी गुफा च देखो रब मेरा वसदा,…

तकदीरा दियां मारियाँ नु गल नाल लाउंदा ऐ,
कोल बिठा के जोगी दुखड़े वंडाउंदा ऐ,
भत्केया भुलेया नु सीधा राह दसदा,
सोने दी गुफा च देखो रब मेरा वसदा,…

रत्नों दे घर आ के गौआ नु च्रउन्दा ऐ,
धर्मो दा देखो आ के पुत्र कहोंदा ऐ,
बगल च चोली हथ चिमटा भी सजदा,
सोने दी गुफा च देखो रब मेरा वसदा….

महिमा सुन जोगी जी दी गोरख वी आया ऐ,
गोरख दी मंडली नु दूध नाल रजाया ऐ,
गोरख दे मन विच लालच है वसदा,
सोने दी गुफा च देखो रब मेरा वसदा,…

जोगी नाल प्रीत माधो पुरिये ने पाई ऐ,
ताहियो ओहदे घर अज होई रुशनाई ऐ,
दीप भी है जोगी दी महिमा पियाँ दसदा,
सोहने दी गुफा च देखो रब मेरा वसदा

Leave a Reply