पुत नन्द ते यशोदा देया जाया
तेरी कमली ने कमला बनाया

मैं सुणया कुब्जा ते डुल्या
मथुरा जाके गोकुल भुल्या
जैसे उसने की जादू पाया
तेरी कमली………

तेरे सिवा मेरा होर ना दर्दी
इक वारि कर श्यामा नज़र मेहर दी
छड दुनिया नु तेरे दर आया
तेरी कमली……..

आ मिल वे कमली देया साईया
सह ना सका मैं तेरिया जुदाईया
केह्डी गल तो है मुखडा छिपाया
तेरी कमली…….

Leave a Reply