prabhu main khelu gi holi tere sang phulo ki holi

राधा को रंगने को कान्हा आये गा,
मीरा को रंगने भी कान्हा जायेगा,
सखियों के संग खेलेगे कान्हा जी,
प्रेम की होली खेलेंगे प्रेम की होली,
प्रभु मैं खेलु गी होली तेरे संग फूलो की होली,

राधा को रंगने को कान्हा खड़े है,
जोरा जोरी कर के पिशे पड़े है,
जाये न भाग राधा पकड़े पड़े है,
नैनो की भाषा से नैना लड़े है,
कान्हा ने रंग दी है चोली,
ब्रिज में फूलो की होली खिले गे प्रेम की होली……

मीरा के मन में तो कान्हा लगन है,
कान्हा के रंग में तो मीरा मगन है,
ऐसी चली प्रीत की जो पवन है,
कान्हा के रंगो में झूमा गगन है मीरा तो कान्हा को बोली,
प्रभु मैं खेलु गी होली तेरे संग फूलो की होली,

Leave a Comment