peer lakh daata ji mehar karo main dar tere te aai hoi aa

पीर लख दाता जी मेहर करो मैं दर तेरे ते आई होइ आ,
मेरे गुण अवगुण न देखो जी मैं जग दी बहुत सताई होइ आ,
पीर लख दाता जी मेहर करो……

दर ते आ जांदा ओ असली खजाने पा जंदा,
मैं भी दुरो चल के आई आ खाली पीरा मैंनू मोड़ी न,
इक वारि दर्श दिखा दे वो मैं भी आस तेरे ते लाइ होइ आ,.
पीर लख दाता जी मेहर करो……..

पीरा दा पीर कहावे तू डूबे बेहड़े तार दिखावे तू,
मेरी भी वेहड़ी पार करि हाथ जोड़ के अर्ज गुजारा दी,
मैनु खाली दर तो मोड़ी न डोरी तेरे हाथ फडाई होइ आ,
पीर लख दाता जी मेहर करो…….

तेरी मेहर जीहदे ते हो जावे ओहनू दुःख कदे न कोई आवे,
हैरी ते मेहरा कर देवी गुण गान तेरा ओह गन्दा वे,
आज रमन भी दर ते आया है उहने नाल तेरे ही लाइ होइ आ,
पीर लख दाता जी मेहर करो

Leave a Comment