pathara ch rehan valiye kahnu ho geya pathar dil tera

हंजू मुक चल्ले साह सुक चल्ले,
नित दुखां विच कुमला के,
मायें नी क्यों तू हाल असां दा,
पुछेया न कदे आके।

काहनूं हो गया पत्थर दिल तेरा,नी पत्थरां च रहन वालिये,
साथों रूसेया है सुख दा सवेरा,चारे पासे सानू दिसदा हनेरा,
केहड़ी गुफ़ा विच ला लिया तूँ डेरा,नी पत्थरां च रहन वालिये,

वास्ते भी पाये बहुत कड्डियाँ लकीरां माँ,
क्यों न जगाइयां गईया तैथों तक़दीरां माँ,
असीं कर्मा दे मारे, वाजा मार मार हारे,
बड़ा पाया ये मुसीबतां न घेरा,
केहड़ी गुफ़ा….

बिछियां ही रहियां सूलां पैरां थल्ले तिखियाँ,
क्यों साडे लेखां विच पीड़ां ही तू लिखियाँ,
ठेडे ठोकरां दे सहन्दे, भुवां मार के जो कहन्दे,
सानू झैमतां ने पिचेया वथेरा,
केहड़ी गुफ़ा….

आजा वेल कढ्ढ के माँ इक दो ही घड़ियां,
बच्चेयाँ दे नाल माँपे करदे नी अड़ियां,
सुत्ति ममता जगा के, रहम दुखियाँ ते खा के,
पाजा हुन ते गरीबां घर फेरा,
केहड़ी गुफ़ा,,,,,

music video bhajan song

दुर्गा भजन