ni main vich jagraate nachana bhagta toli naal

सोहना माँ दा भवन सजा के रंग भीरंगियाँ लड़ियाँ ला के,
चारे पासे खुशियाँ दा रंग बरसे नालो नाल.
नि मैं विच जगराते नचना भगता दी टोली नाल,

गल विच चुनियाँ टिका लाके नच्दे भगत प्यारे,
स्वर्गा नालो सोहने लगदे देखो मस्त नजारे,
दिल करदा मैं वेखी जावा माँ दा रूप कमाल,
नि मैं विच जगराते नचना भगता दी टोली नाल,

ढोल खडकदा नाल झूम दी माँ भगता दी टोली,
जय जय कार जयकारे कनी पैंदी मीठी बोली,
माँ मंदिरा ते मेले सुनिया रहंदे सारा साल,
नि मैं विच जगराते नचना भगता दी टोली नाल,

आजो आजो नचिये गाइए नचिये ख़ुशी मनाइए ,
संगता दे नाल जगराते विच हाजरियां लगवाइये,
सरजीवन संग साहिब नचे वजे मीठी ताल,
नि मैं विच जगराते नचना भगता दी टोली नाल,

Leave a Comment