naganiya banke das gayi mohan teri bansuriya

नागनिया बनके डस गयी मोहन तेरी बंसुरिया
मेरा गयी कलेजा चीर मोहन तेरी बंसुरिया

रिम झिम मेघा बरसे चमके बिजुरिया
मैं कैसे आउ श्याम मेरी तो भीगे चुनरिया
नागनिया बनके…..

जमुना जल मैं भरन जात हूँ सिर पे गागरिया
अरे ऐसी मारी कांकुर मेरी फोड़ी गागरिया
नागनिया बनके……

सास भी सोये नन्द भी सोये जागे सावरिया
अरे मैं कैसे आउ श्याम मेरी तो बाजे पायलिया
नागनिया बनके…..

कृष्ण भजन