ना मैं फूल लाया हु ना परशाद लाया हु,
साई बाबा से कहने दिल की बात आया हु

कब रंग अपना मुझपे चढ़ाओगे,
कब अपना दीवाना बनाओ गे,
ये फर्याद लाया हु ये मुराद लाया हु,
साई बाबा से कहने दिल की बात आया हु

जब मैं जियु तो मैं तेरा होक जियु तेरी भक्ति का रस मैं उम्र भर पीयू,
गमो का सताया दुखो का सताया हु,
साई बाबा से कहने दिल की बात आया हु

साई बुंट्टी ओलम्पी की विनती सुन लो,
ये अनाड़ी है ना इसकी गलती गिनो,
खाली हाथ आया हु ना कुछ साथ लाया हु,
साई बाबा से कहने दिल की बात आया हु

Leave a Reply