मुरली वाले तू मुरली बजा दे
नहियो बज्दी ते सानू फडादे

तेरी मुरली है छैल छबीली
इसदी तान है बड़ी रसीली
ज़रा होंटा उते लाके वखा दे
नहियो……

तेरी मुरली बड़ी निराली
बहारो सोहनी ते अन्द्रो खाली
ज़रा मुख नाल लाके वखा दे
नहियो…….

तेरी मुरली च भरया है जादू
साडा दिल नहियो रेहनदा है काबू
तेरी मुरली ता राधे-राधे गावे
नहियो…….

Leave a Reply