meri maati ke matke tu ram naam bol

मेरे माटी के मटके तू राम नाम बोल
राम नाम बोल हरि का नाम बोल मेरे

कुट पिट के तू आया जगत में पिछली हंसी टटोल
मेरे माटी के मटके तू राम नाम बोल
राम नाम बोल हरि का नाम बोल मेरे

जैसी करनी वैसी भरनी इसमे प्रभु का क्या दोष
मेरे माटी के मटके तू राम नाम बोल
राम नाम बोल हरि का नाम बोल मेरे

ऊपर से तू चिकना चुपड़ा अंदर भरी है तेरी पोल
मेरे माटी के मटके तू राम नाम बोल
राम नाम बोल हरि का नाम बोल मेरे

जब तू जायेगा हरि के द्वारे वंहा खुलेगी तेरी पोल
मेरे माटी के मटके तू राम नाम बोल
राम नाम बोल हरि का नाम बोल मेरे

कहत कबीर सुनो भाई साधो अंदर की आंखें खोल
मेरे माटी के मटके तू राम नाम बोल
राम नाम बोल हरि का नाम बोल मेरे

Leave a Comment