मेरे सपनो में आते है शिरडी के साई राम,

सपनो में दीखते है मुझको शिरडी के सारे नज़ारे,
बेठे सिंघासन पे साई करते है मुझको इशारे,
वो हाथ हिलाते है दर पे बुलाते है,
थोरा मुस्काते है,शिरडी के साई राम,
मेरे सपनो में आते है……….

झूमते देखे है हमने साई के भक्त हजारो,
भक्तो का साथी यही है प्रेम से इसको पुकारो,
जो दर पे आते है संग उनके रहते है,
रास्ता दिखालाते है, शिरडी के साई राम,
मेरे सपनो में आते है……….

सपनो में रोज हो आते,एक दिन सच मुच आना,
श्याम कहे थोड़ी सेवा हाथो से मेरे करवाना,
सपने मेरे सच होंगे दोनों एक संग होंगे,
पुरे होंगे अरमान, शिरडी के साई राम,
मेरे सपनो में आते है…….

Leave a Reply