mere guru ji de darbar sada khushiyan hi khushiyan

मेरे गुरु जी दे दरबार सदा खुशियां ही खुशियां,

जो भी आनदे शीश झुकानदे मेरे गुरु जी गल नल लौंडे,
करदे उसते उपकार सदा खुशियां ही खुशियां,
मेरे गुरु जी दे दरबार सदा खुशियां ही खुशियां,

सब नल गुरु जी प्यार करदे,
संगत दे दुःख सारे हरदे,
करदे सब दा उधार,सदा खुशियां ही खुशियां,
सब लूट लो मौज बहार सदा खुशियां ही खुशियां,
मेरे गुरु जी दे दरबार सदा खुशियां ही खुशियां,

डुगरी दे आज भाग जगाये मेरे गुरु जी तारण आये,
आज हो रही जय जय सदा खुशियां ही खुशियां,
सब लूट लो मौज बहार सदा खुशियां ही खुशियां,
मेरे गुरु जी दे दरबार सदा खुशियां ही खुशियां,

Leave a Comment