mere banvari dur karo dukh mera

मेरे बनवारी दूर करो दुख मेरा
सुना है जो तेरे दर पे आया कष्ट हरे बनवारी

जनम जनम से मैं भटका हु
बिच भवर में मैं अटका हु
डगमग डोले जीवन नैया
पार को गिरधारी……….

देख देख दुनिया की हालत मन मेरा घबराया
आजा आजा अब तो आजा
मनमोहन गिरधारी………

आस तुम्ही विश्वास तुम्ही
मेरा तु ही इक सहारा
देखी तेरी दुनिया हमने
मेरा नही गुजारा…….

Leave a Comment