लोकी लभदे विच संसार दे मैं दिल च वसाया ,
ओ मेरा सिंगियाँ वाला यार मैं हरदम कोल है पाया ,

बारा साल दे बाल ने दुनिया कमली किती,
तर गया भागा वाला जिहने एहदे नाम दी पीती,
ऐसा नाम खुमारी दा है रंग चड़ेया,
मेरा सिंगियाँ वाला यार …..

अवे ता नि सिद्ध जोगी नु दुनिया मनदी,
गुरु गोरख दी सिद्ध जोगी ने आकड़ भन ती,
इक चिपी नाल तिन सो सठ चेला सी रजाईया,
मेरा सिंगियाँ वाला यार

विच गुफा दे रहंदा ऐ सारे जग दा बाली,
छडके दुनिया दारी प्रीत जोगी नाल ला लाइ ,
दे नी सकदा जेह्डा सूखे नु चरना ला,
मेरा सिंगियाँ वाला यार

बाबा बालक नाथ भजन