mera paunahari udda eh vich pauna de

मेरा पौणाहारी उड्डदा ऐ, विच पौणा दे,
जेहड़ा साह देंदा ऐ, सहनु साड़े साह बनके l
मोरां ते बैठन दा तां, एक बहाना ऐ,
ओह ते उड जांदा ऐ, हवावां विच हवा बनके l

साहाँ बखशन वाले दा, पौणाहारी विच वासा ऐ,
किन्ने लऐ ते लैने ने, ओहदे हथ खाता ऐ ll
सुर सागर, पुछ के वेख जरा, उस कीड़े नु,
पथरां विच, जेहड़ा बैठा खुद, गवाह बन के,
मेरा पौणाहारी उड्डदा ऐ…….

इक इक साह, वडमुला मिलदा, लख करोड़ी ना,
की करने जे, धुर अन्दर तक, सुरती जोड़ी न ll
जद मुक्क जानी, मनी सागर तों, पूँजी सुआंसा दी,
मिट्टी नाल मिटटी, होना अंत सुआह बनके,
मेरा पौणाहारी उड्डदा ऐ………

तू क्यों ढाहवे, मस्जिद मैं क्यों, ढाहवां मंदिर नु,
आ जा, रल के पढ़िए, इक दूजे दे अंदर नु ll
जद पता, ओहदे हथ डोर, तेरियां साहाँ दी,
तूँ खुद ही बन्दियां, बह गया आप, खुदा बन के,
मेरा पौणाहारी उड्डदा ऐ………

Leave a Comment