मेरा चिन्तापूर्णी नाल दो गल्लां करन नु जी करदा,
मेरा जग कल्याणी नाल दो गल्ला करन नु जी करदा,
गला करन नु जी करदा मेरा चोंकी भरन नु जी करदा,
बोल जैकारा भवना दी हर पोड़ी चडन नु जी करदा,
मेरा चिन्तापूर्णी नाल दो गल्लां….

काश कबूतर जे मैं हुंदा विच पहाड़ी रहंदा,
दिन नु चोगा चुगदा रहंदा रात भवन ते बेहन्दा
उठ सवेरे जग जन नि नु एहो अवाजा दिंदा,
तेरे चरण कमल ते माँ आंबे मेरा शीश धरन नु जी करदा,

मेरा चिन्तापूर्णी नाल दो गल्लां करन नु जी करदा,
मंदिर दी रानी नाल दो गल्ला करन नु जी करदा,
गल्ला करन नु जी करदा मेरा चोंकियाँ भरन नु जी करदा

बोल जयकारा भवना दी हर पोड़ी चडन नू जी करदा,
मेरा चिन्तापूर्णी नाल दो गल्लां करन नु जी करदा,
मेरा जग कल्याणी नाल दो गल्लां करन नु जी करदा,

सोहला आने खड़ी खड़ी मैं गल कवा दूध धोती,
दया दे मान सरोवर विच वेखी जगदी ज्योति,
जे हुंडी मैं हंसनी माँ नाल नाम दा चुब्दा मोती,
मेरा तन मन सारा अंबे माँ नु भेट कर्ण नु जी करदा

मेरा चिन्तापूर्णी नाल दो गल्लां करन नु जी करदा,
मंदिर दी रानी नाल दो गल्ला करन नु जी करदा,
गल्ला करन नु जी करदा मेरा चोंकियाँ भरन नु जी करदा

बोल जयकारा भवना दी हर पोड़ी चडन नू जी करदा,
मेरा चिन्तापूर्णी नाल दो गल्लां करन नु जी करदा,
मेरा जग कल्याणी नाल दो गल्लां करन नु जी करदा,

दुर्गा भजन

Leave a Reply