makhana da chor naa kise nu taaarda

मखना दा चोर ना किसे नु तारदा,
गौआ चारदा नाले ढाके मारदा,
मखना दा चोर ना किसे नु तारदा,
गौआ चारदा नाले ढाके मारदा,

गोपियाँ दे नाल नाल फिरदा अकेला वे.
ऍस नु न काम साहम डोलदा इ वेहला वे,
विंजना नु छड दिंदा भूखा प्यार दा,
गौआ चारदा नाले ढाके मारदा,

जग नु भुला के रखो भाग खुल जानगे,
काश क्रोध लोभ छड़ो जद शाम आनगे,
सीधा साधा रास्ता है सत्कार दा,
गौआ चारदा नाले ढाके मारदा,

यमुना दे तीर उते चीर चोर लेनदा वे,
कदम ओहदे थले आऊ गोपियाँ नु कहंदा वे,
उची नीची गला नु न एह विचारदा,
गौआ चारदा नाले ढाके मारदा,

चोरी दे बहाने कदी साडे घर आवी तू,
आपने प्यारियां नु गले वी लगावी तू,
मधुप शाम दोहड़ा आवे जो पुकारदा,
गौआ चारदा नाले ढाके मारदा,

Leave a Comment