वे तू पतिया विच पहाड़ा विच इस दुनिया दियां बहारा विच,
मैं लभदा तनु हर वेले फिर क्यों नजर नहीं आउंदा,
मैनु सच दिखा दे वे रबा हूँ झूठ नहीं दिल नू भोंदा

उपरो ता सच्चे लगदे सब भोले बन बन थागडदे,
एथे कोई किसे दा नहीं सब अपना मतलब कड दे ने,
पूत मेरी कलया बह बह राता विच उठ उठ रोंदा,
मैनु सच दिखा दे वे रबा हूँ झूठ नहीं दिल नू भोदा,

भटके हां राह दिखा दे तू भा फड़ के पार लंगा दे तू,
कुझ होर तेरे तो मंगदा नहीं धर्म दा वैर मिटा दे तू,
तांडे वाला कुझ न चावे बस दीद तेरी नू चोहनदा,

मैनु सच दिखा दे वे रबा हूँ झूठ नहीं दिल न भोंदा

Leave a Reply