मैं सभ दा हो के वेख लिया,
एक तेरा होना बाकी ऐ,
मैं अपना सब कुज खो बेठा,
हुन आपा खोहना बाकी ऐ,
मैं सभ दा हो के …….

तेरी याद च रो रो ऐ प्रीतम,
सब पानी मूक गया अखियाँ दा,
हुन खून जिगर दा अखियाँ राह,
रो रो के चोना बाकी ऐ,
मैं सभ दा हो के …….

मेरी उम्र चली गई आज तीकर,
लोकां दे रोने रोंदे दी,
लोकां दे रोने रो बेठा,
हुन अपना रोना बाकी ऐ,
मैं सभ दा हो के …….

श्रद्धा दा धागा वट लिया,
सधरा दियां कलियाँ चुन लईयां,
तेरे सोहने गल विच पाऊंन लई,
बस हार परोना बाकी ऐ,
मैं सभ दा हो के …….

Leave a Reply